30 C
Mumbai
Saturday, May 25, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

राष्ट्रपति शी ने नए साल के संबोधन में दिया सख्त संदेश, ताइवान को चीन के साथ मिलाने का किया आह्वान

ताइवान में 13 जनवरी को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले, राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने रविवार को अपने नए साल के उपलक्ष्य में संबोधन दिया । उन्होंने सख्त संदेश देते हुए कहा कि ताइवान को चीन के साथ फिर से एकीकृत किया जाएगा। इसमें बताया गया कि चीन और ताइवान के बीच तनाव बरकरार है, शी ने बार-बार चीन के रुख की पुष्टि की है कि ताइवान चीन का हिस्सा है और यदि आवश्यक हो तो बलपूर्वक इसे फिर से एकीकृत किया जाना चाहिए।

शी ने रविवार के संबोधन में कहा, ‘ताइवान जलडमरूमध्य के दोनों किनारों पर सभी चीनियों को उद्देश्य की सामान्य भावना से बंधा होना चाहिए। चीनी राष्ट्र के कायाकल्प की महिमा में हिस्सा लेना चाहिए।मातृभूमि? निश्चित रूप से फिर से एकजुट होगी’।

यह भाषण कुछ ही दिनों में दूसरी बार था जब शी ने ताइवान मुद्दे को संबोधित किया। शी ने मंगलवार को कम्युनिस्ट चीन के संस्थापक माओत्से तुंग के जन्म की 130वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में बीजिंग में एक संगोष्ठी के दौरान ताइवान को फिर से एकजुट करने की भी कसम खाई।

कार्यक्रम में शी ने कहा, ‘मातृभूमि का पूर्ण एकीकरण एक अप्रतिरोध्य प्रवृत्ति है। उन्होंने कहा कि चीन दोनों पक्षों को ‘किसी को भी विभाजित होने से दृढ़तापूर्वक रोकेगा’। इस बीच, ताइवान में, निवासी चुनाव के लिए तैयारी कर रहे हैं। वर्तमान जनमत सर्वेक्षणों से पता चलता है कि निवासी स्वतंत्रता-झुकाव वाले उम्मीदवार लाई चिंग-ते के पक्ष में हैं। 

चीनी सरकार से संवाद करने के लिए तैयार हैं उपराष्ट्रपति
सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक पीपुल्स पार्टी से सबसे आगे चल रहे और वर्तमान में ताइवान के उपराष्ट्रपति लाई चिंग-ते ने शनिवार को एक टेलीविजन बहस में कहा कि वह चीन में सरकार के साथ संवाद करने के लिए तैयार हैं, जिसने उनसे या राष्ट्रपति त्साई इंग के साथ बात करने से इनकार कर दिया है।

बता दें कि बीजिंग अधिक चीन-अनुकूल राष्ट्रवादी, या कुओमितांग, पार्टी के उम्मीदवार का समर्थन करता है। उसने लाई और त्साई की अलगाववादी के रूप में आलोचना की है और उन पर ताइवान पर चीनी हमले को भड़काने की कोशिश करने का आरोप लगाया है।

इससे पहले, चीनी नेता शी जिनपिंग ने दावा किया है कि चीन के साथ ताइवान का पुन: एकीकरण अपरिहार्य है, जो अगले महीने ताइवान में होने वाले महत्वपूर्ण चुनाव से पहले बीजिंग के दीर्घकालिक रुख पर जोर देता है। उन्होंने ये टिप्पणी पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के संस्थापक माओत्से तुंग के जन्म की 130वीं वर्षगांठ के अवसर पर एक संबोधन के दौरान की थी।

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »