34 C
Mumbai
Tuesday, April 16, 2024

आपका भरोसा ही, हमारी विश्वसनीयता !

Matthew Miller: ‘भारत की तरफ से जांच का इंतजार करेंगे’, अमेरिका खालिस्तानी आतंकी पन्नूं को जान से मारने की साजिश पर बोला

Matthew Miller: खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नूं की हत्या की साजिश को लेकर भारत पर लगाए गए आरोपों के बीच अमेरिका ने मामले पर फिर बयान दिया है। अमेरिकी सरकार ने कहा है कि वह पन्नूं की हत्या की साजिश के मामले में भारत की जांच के नतीजों का इंतजार करेगा। 

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा, “हमारे विदेश मंत्री ने इस मामले को सीधे अपने भारतीय समकक्ष के सामने उठाया है और उनसे कहा है कि हम इस मुद्दे को पूरी गंभीरता से लेते हैं। उन्होंने कहा कि वे इस मामले में पूरी जांच करेंगे। उन्होंने जांच की बात सार्वजनिक तौर पर कही है। अब हम उनकी जांच के खत्म होने और इसके नतीजों का इंतार करेंगे।”

मिलर ने कहा कि यह हमारे लिए गंभीर मुद्दा है। अमेरिकी अधिकारी ने एक दिन पहले भी कहा था कि हम अंतरराष्ट्रीय उत्पीड़न सहन नहीं करते फिर चाहे वह कोई भी हो। उन्होंने कनाडा में खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या मामले में भी भारत से जांच में सहयोग की अपील की है। 

अमेरिकी अधिकारी- टिप्पणी करना अनुचित
अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि मैं मामले में टिप्पणी नहीं करूंगा। कानून प्रवर्तन एजेंसी मामले की जांच कर रहा है। अमेरिकी न्याय विभाग अदालत में मामला पेश किया जा रहा है, ऐसे में कोई भी टिप्पणी करना मेरे लिए अनुचित होगा। हमने इसे भारतीय सरकार के सबसे वरिष्ठ स्तर पर उठाया है। उन्होंने हमें बताया कि वे जांच करेंगे। उन्होंने सार्वजनिक रूप से जांच की घोषणा की है। हम जांच के परिणामों का इतंजार कर रहे हैं। वहीं, अमेरिकी डिप्टी एनएसए फाइनर ने भारतीय अधिकारियों के साथ चर्चा के दौरान बताया कि भारतीय जांच में दोषी पाया गया व्यक्ति हमारे लिए महत्वपूर्ण है। यह हमारे लिए गंभीर मुद्दा है।

पहले भी अमेरिका साफ कर चुका है मामला
एक दिन पहले, अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने इस दौरान कहा कि अमेरिका अंतरराष्ट्रीय उत्पीड़न को सहन नहीं करता, यह बात सिर्फ भारत के लिए नहीं है, बल्कि पूरे विश्व के लिए है। हम विरोध करते हैं फिर चाहे वह कोई भी देश हो। यह एक बड़ा मुद्दा है और हम मंचों से ऐसे लोगों के बारे में बात नहीं करते। हमें जैसे ही मामले की जानकारी मिली वैसे ही हमारे वरिष्ठ अधिकारियों ने भारतीय वरिष्ठों के साथ बैठक की। हमने स्पष्ट कर दिया कि हम ऐसे किसी मामले को बेहद गंभीरता से लेते हैं। भारत मामले की जांच कर रहा है। हम जांच के नतीजे देखने के लिए उत्सुक हैं।

अब जानिए, कौन है निखिल गुप्ता और क्या लगे हैं आरोप
अमेरिका के न्याय विभाग के अनुसार, 52 वर्षीय निखिल गुप्ता एक भारतीय नागरिक है और उस पर खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नूं की हत्या के लिए हत्यारों को पैसे देने का आरोप है। 30 जून 2023 को चेक रिपब्लिक में गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया गया था। अब चेक रिपब्लिक से निखिल गुप्ता को अमेरिका प्रत्यर्पण किया जाएगा। अमेरिकी न्याय विभाग का कहना है कि भारत के एक सरकारी अधिकारी, जिसके नाम का खुलासा नहीं हुआ है, वह निखिल गुप्ता और अन्य उस सरकारी अधिकारी के संपर्क में था। ये लोग अमेरिका में पन्नूं, जो कि भारतीय मूल का है और अमेरिकी नागरिक है, उसकी हत्या की साजिश रच रहे थे। 

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा, “हमारे विदेश मंत्री ने इस मामले को सीधे अपने भारतीय समकक्ष के सामने उठाया है और उनसे कहा है कि हम इस मुद्दे को पूरी गंभीरता से लेते हैं। उन्होंने कहा कि वे इस मामले में पूरी जांच करेंगे। उन्होंने जांच की बात सार्वजनिक तौर पर कही है। अब हम उनकी जांच के खत्म होने और इसके नतीजों का इंतार करेंगे।”

मिलर ने कहा कि यह हमारे लिए गंभीर मुद्दा है। अमेरिकी अधिकारी ने एक दिन पहले भी कहा था कि हम अंतरराष्ट्रीय उत्पीड़न सहन नहीं करते फिर चाहे वह कोई भी हो। उन्होंने कनाडा में खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या मामले में भी भारत से जांच में सहयोग की अपील की है। 

अमेरिकी अधिकारी- टिप्पणी करना अनुचित
अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि मैं मामले में टिप्पणी नहीं करूंगा। कानून प्रवर्तन एजेंसी मामले की जांच कर रहा है। अमेरिकी न्याय विभाग अदालत में मामला पेश किया जा रहा है, ऐसे में कोई भी टिप्पणी करना मेरे लिए अनुचित होगा। हमने इसे भारतीय सरकार के सबसे वरिष्ठ स्तर पर उठाया है। उन्होंने हमें बताया कि वे जांच करेंगे। उन्होंने सार्वजनिक रूप से जांच की घोषणा की है। हम जांच के परिणामों का इतंजार कर रहे हैं। वहीं, अमेरिकी डिप्टी एनएसए फाइनर ने भारतीय अधिकारियों के साथ चर्चा के दौरान बताया कि भारतीय जांच में दोषी पाया गया व्यक्ति हमारे लिए महत्वपूर्ण है। यह हमारे लिए गंभीर मुद्दा है।

पहले भी अमेरिका साफ कर चुका है मामला
एक दिन पहले, अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने इस दौरान कहा कि अमेरिका अंतरराष्ट्रीय उत्पीड़न को सहन नहीं करता, यह बात सिर्फ भारत के लिए नहीं है, बल्कि पूरे विश्व के लिए है। हम विरोध करते हैं फिर चाहे वह कोई भी देश हो। यह एक बड़ा मुद्दा है और हम मंचों से ऐसे लोगों के बारे में बात नहीं करते। हमें जैसे ही मामले की जानकारी मिली वैसे ही हमारे वरिष्ठ अधिकारियों ने भारतीय वरिष्ठों के साथ बैठक की। हमने स्पष्ट कर दिया कि हम ऐसे किसी मामले को बेहद गंभीरता से लेते हैं। भारत मामले की जांच कर रहा है। हम जांच के नतीजे देखने के लिए उत्सुक हैं।

अब जानिए, कौन है निखिल गुप्ता और क्या लगे हैं आरोप
अमेरिका के न्याय विभाग के अनुसार, 52 वर्षीय निखिल गुप्ता एक भारतीय नागरिक है और उस पर खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नूं की हत्या के लिए हत्यारों को पैसे देने का आरोप है। 30 जून 2023 को चेक रिपब्लिक में गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया गया था। अब चेक रिपब्लिक से निखिल गुप्ता को अमेरिका प्रत्यर्पण किया जाएगा। अमेरिकी न्याय विभाग का कहना है कि भारत के एक सरकारी अधिकारी, जिसके नाम का खुलासा नहीं हुआ है, वह निखिल गुप्ता और अन्य उस सरकारी अधिकारी के संपर्क में था। ये लोग अमेरिका में पन्नूं, जो कि भारतीय मूल का है और अमेरिकी नागरिक है, उसकी हत्या की साजिश रच रहे थे। 

Latest news

ना ही पक्ष ना ही विपक्ष, जनता के सवाल सबके समक्ष

spot_img
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Translate »